गोरखपुर में CM योगी की हार के बाद अनोखी जिद पर उतरा यह शख्स

0
181
कानपुर. अपने गुरु की सीट हारने से आहत एक बीजेपी कार्यकर्ता ने कुछ समय के लिए समाधी लेकर सबको आश्चर्य में डाल दिया। यह कार्यकर्ता को अपना गुरु मानता है। वो गोरखपुर जाकर घर-घर वोट भी मांग चुका है। बबुआ और बुआ जी के खेमे में गोरखपुर व फूलपुर उपचुनाव जीतने के बाद खुशी का माहौल है। दूसरी तरफ, बीजेपी के इस सक्रिय कार्यकर्ता ने खाना-पानी तक छोड़ दिया। गांव में जब इसने समाधी लेने की घोषणा की तो सैकड़ों लोग इकठ्ठा हो गए। लोगों के काफी समझाने के बाद उसने 7 घंटे बाद समाधी तोड़ा और बाहर निकला। उसकी इस दीवानगी देख हर कोई हैरान है।
गोरखपुर में CM योगी की हार के बाद अनोखी जिद पर उतरा यह शख्स

 कानपुर के महाराजपुर थाना क्षेत्र के रहने वाले बीजेपी कार्यकर्ता हैं। बीते 16 वर्षों से वह बीजेपी संगठन के लिए काम कर रहे हैं। ये योगी आदित्यनाथ को अपना गुरु मानते हैं। जब योगी मुख्यमंत्री नहीं थे, तब भी वह गोरखपुर जाकर उनका आशीर्वाद लेता था।

अरुण शुक्रवार को गंगा के किनारे गया और गड्ढा खोद कर खुद को बालू से ढंक लिया। दरअसल, उपचुनाव का जब से रिजल्ट आया है, उसने खाना-पानी छोड़ दिया था। उस दौरान घरवालों ने समझाकर खाना खिलाया था। लेकिन अभी भी वो बीजेपी की इस हार को भुला नहीं पा रहा है।

अरुण ने बताया कि गोरखपुर की सीट मेरे गुरु जी की रही है। यह सीट हाथ से फिसल जाने से मैं बहुत आहत हूं। इसी वजह से मैंने समाधी लेने का फैसला किया था। 7 घंटे खुद को रेत में ढंककर रखा था। लोगों के समझाने के बाद बाहर आया।

READ  Model breastfeeds in a bold magazine cover shoot