नवरात्रि के दौरान किस तरह का भोजन करें जिससे स्वस्थ्य रहा जा सके

0
160

आइए आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि नवरात्रि के दौरान डिटॉक्स कैसे रहा जा सकता है। वैदिक ग्रंथों में कंद- मूल और फल को ही भोजन माना गया है और नवरात्रि में यही खाया जाता है। इस में ऊर्जा देने वाली कार्बोहाइड्रेट और वसा अधिक होती है। व्रत में खाने की न्यूट्रिशनल वैल्यू कितनी है आइए जाने-

नवरात्रि के दौरान किस तरह का भोजन करें जिससे स्वस्थ्य रहा जा सके

सिंघाड़े का आंटा: 100 ग्राम सिंघाड़े के आटे में प्रोटीन 3, वसा 15 और कार्बोहाइड्रेट 50 ग्राम से अधिक होता है ।इसमें विटामिन, आयरन, कैल्शियम, सोडियम फास्फोरस, मैगनेट, पोटेशियम, आयोडीन जैसे पोषक तत्व होते हैं ।सिंगाड़े से लगभग 170 कैलोरी ऊर्जा मिलती है ।

आलू व अरवी: आलू में कैल्शियम, लोहा, फास्फोरस, पोटेशियम, विटामिन B, C तथा 70% तक पानी होता है। सौ ग्राम आलू मेंं 87 कैलोरी ऊर्जा होती है। अरबी में कैल्शियम, आयरन, विटामिन सी, और बीटा कैरोटीन होता है ।आलु व अरबी में शक्कर की मात्रा 19% तक होती है।

दही: दही में उपलब्ध प्रोटीन अधिक गुणकारी होता है । इसीलिए दही खाने से पेट भरा लगता है। इस में हल्का सा खट्टा स्वाद होता है। जिससे प्यास अधिक नहीं लगती है। इन्हीं कारणों से व्रत में दही का प्रयोग किया जाता है दही से 60 कैलोरी ऊर्जा मिलती है।

READ  बॉलीवुड के ये कलाकार हो चुके हैं ‘कास्टिंग काउच’ के शिकार जानिए नाम