प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रैपिड रेल समेत साढ़े 32 हजार करोड़ की परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया

0
184

8 मार्च 2019, गाजियाबाद। गाजियाबाद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रैपिड रेल समेत साढ़े 32 हजार करोड़ की परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने एक जनसभा को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि आज का दिन उत्तर प्रदेश के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। आज पूरे यूपी में मैंने विकास से जुड़े हजारों करोड़ के प्रोजेक्ट्स का लोकार्पण और शिलान्यास किया है। आज पीएम किसान सम्मान योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना सहित अनेक योजनाओं के लाभार्थियों को भी प्रमाण पत्र दिए गए हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले की सरकारों के शासनकाल में गाजियाबाद और पश्चिमी उत्तर प्रदेश की पहचना किन कारणों से होती थी, आज गाजियाबाद की पहचान तीन ‘सी’ से होती है। पहला सी है कनेक्टिविटी। रेल कनेक्टिविटी, मेट्रो ट्रेन से हो, हवाई कनेक्टिविटी हिंडन एयरपोर्ट से हो या फिर इंस्टेंट पेरिफैरल एक्स्प्रेस वे के माध्यम से हो वलर्ड क्लास रोड कनेक्टिविटी। इसी प्रकार का दूसरा सी है क्लीनलीनेस, हाल ही में स्वच्छता सर्वेंक्षण की रैकिंग में गाजियाबाद देश में 13वें स्थान पर पहुंच गया है। यही गाजियाबाद 2017 में 351 नंबर था। तीसरा सी है कैपिटल। यानि की उद्यमियों की मेहनत और उनके परिश्रम के कैपिटल ने गाजियाबाद को पूरे प्रदेश का बिजनेस हब बना दिया है। इसके लिए मैं योगी जी और उनकी टीम को बहुत-बहुत धन्यवाद देता हूं।

हमारी सरकार ने सबका साथ सबका विकास के मंत्र के साथ हमारी सरकार काम करने में जुटी है

प्रधानमंत्री ने कहा कि हिंडन एयरबेस से सिविल टर्मिनल का उद्घाटन किया है। यहां से मैं शहीदस्थल जाउंगा और दिलशाद गार्डन तक जाने वाली मेट्रो को हरी झंडी दिखाउंगा। अब तक गाजियाबाद के हिंडन की पहचान सिर्फ वायु शक्ति के रूप महत्वपूर्ण सेंटर के रुप में होती थी। अब गाजियाबाद के लोगों को दूसरे शहर जाने के लिए दिल्ली जाने की आवश्यकता कम पड़ेगी। इस एयरपोर्ट को उड़ान योजना से जोड़ा गया है। अब हवाई चप्पल पहनने वाला आम आदमी भी कम कीमत में अब यहां से हवाई सफर कर पाएगा। इस टर्मिनल का विचार नौ-दस महीने पहले आया था। इतने कम समय में इसका निर्माण कार्य पूरा हो गया। इससे पहले प्रयागराज में भी नया एयरपोर्ट टर्मिनल सिर्फ 11 महीने में बना था।

प्रधानमंत्री ने कहा कि दिल्ली-एनसीआर की बड़ी समस्या रही है जाम और प्रदूषण। गाजियाबाद की सबसे बड़ी समस्या है जाम और प्रदूषण। मेट्रो चलने से आप दोनों समस्याओं से निजात मिल सकेगी। लोगों को दफ्तर जाने के लिए, छात्रों को कॉलेज जाने के लिए जाम से निपटने का विकल्प मिल चुका है। पहले लोगों की शिकायत में रहती थी कि रोजाना के 2 से 3 घंटे जाम में बीतते हैं अब यह शिकायत कम होने वाली है। अब सफर की सफरिंग निश्चित कम होने वाली है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज दिल्ली, गाजियाबाद, मेरठ के आरआरटीएस का शिलान्यास किया गया है। अब दिल्ली से मेरठ की दूरी सिर्फ एक घंटे की रह जाएगी। यही नहीं सड़क यातायात को आधुनिक बनाने के लिए नार्दन पेरिफेरल मास्टर प्लान रोड और आउटर रिंग रोड का शिलान्यास किया गया है। जब यह प्रोजेक्ट पूरे हो जाएंगे तो दिल्ली से आने वाली गाड़ियों को गाजियाबाद शहर में एंट्री की जरूरत नहीं रहेगी। इससे यहां ट्रैफिक का दबाव कम होगा और जाम नहीं लगेगा।

सभी प्रोजेक्टों का शिलान्यास और उद्घाटन लोगों के जीवन को सुगम बनाएंगे साथ ही नए उद्यमों को नए अवसर पैदा करेंगे। आज ही लखनऊ, आगरा, गाज़ियाबाद तीन मेट्रो प्रोजेक्ट का लोकार्पण और शिलान्यास हो रहा है। कल नोएडा में मेट्रो के नए रूट का लोकार्पण किया जाएगा। कल नागपुर मेट्रो की भी शुरुआत हुई है। इसी हफ्ते ही अहमदाबाद मेट्रो का लोकार्पण भी हुआ है। इसी गति से देशभर के शहर में ट्रांसपोर्ट कनेक्टिवीटी की सुविधाओं को तेज करने पर काम किया जा रहा है।