ये हैं 5 चमत्कारी मंदिर, विज्ञान भी नहीं जान पाया इनका रहस्य, मात्र दर्शन से पूरी होती है मुराद

0
364

आज भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में हिंदू धर्म और देवी-देवताओं को मानने वाले लोग मौजूद है। चाहे जीवन में दुख-परेशानियां चल रही हो या फिर कोई उत्सव की बात हो, हर परिस्थिति में लोग भगवान को ही याद करते हैं।

आज हम आपके 5 ऐसे मंदिरों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनकी महिमा का गुणगान कई ग्रंथों में पाया जाता है। मान्यता है कि ये सभी मंदिर बड़े ही चमत्कारी है और उनके दर्शन मात्र से ही भक्त ही हर मुराद पूरी हो जाती है।

जानिए कौन-से हैं वे 5 चमत्कारी मंदिर…

कसार देवी का मंदिर

देवभूमि उत्तराखंड के अल्मोड़ा से करीब 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कसार देवी मंदिर को लेकर मान्यता है कि यहां पर जागृत देविय शक्ति वास करती है। मां दुर्गा के इस मंदिर में अनोखी शक्तियां मौजूद हैं। यहां आने वाले भक्त आसानी से सैकड़ों सीढ़ियां बिना किसी थकावट के ही चढ़ जाते हैं। पौराणिक मान्यता है कि यहीं पर मां दुर्गा ने दो राक्षसों का वध करने के लिये कात्यायनी अवतार लिया था। तब से इस जगह को विशेष स्थान के रूप में जाना जाता है। यहां आने वाले भक्तों की हर मनोकामना जरूर पूरी होती है।

जगन्नाथ मंदिर

पुरी का श्री जगन्नाथ मंदिर एक विख्यात हिन्दू मंदिर है, जो भगवान जगन्नाथ (श्रीकृष्ण) को समर्पित है। इस मंदिर को पवित्र चार धाम में से एक गिना जाता है। पुराणों में जगन्नाथ पुरी को धरती का बैकुंठ कहा गया है। पुराणों के अनुसार, यहां रक भगवान विष्णु ने पुरुषोत्तम नीलमाधव के रूप में अवतार लिया था और वे यहां सबर जनजाति के परम पूज्य देवता बन गए। सबर जनजाति के देवता होने की वजह से यहां भगवान जगन्नाथ का रूप कबीलाई देवताओं की तरह है। जगन्नाथ मंदिर की महीमा देश में ही नहीं विश्व में भी प्रसिद्ध है। ऐसी मान्यता है कि यहां आने वाले श्रद्धालुओं की मनोकामना जगन्नाथ भगवान अवश्य पूरी करते हैं।

READ  भाई से शादी करने की जिद लेकर थाने पहुंची बहन, बताया 6 साल में क्या-क्या किया

महाकाली शक्तिपीठ

गुजरात में स्थित पावागढ़ महाकाली मंदिर एक शक्तिपीठ है, जिसे देवी का जागृत निवास माना जाता है। धर्म ग्रंथों के अनुसार जहां-जहां माता सती के अंग के टुकड़े, धारण किए हुए वस्त्र या आभूषण गिरे, वहां-वहां शक्तिपीठ बन गए। इस जगह को लेकर मान्यता है कि यहां देवी सती के दाहिने पैर की उंगलियां गिरी थीं। जिसके चलते लोगों की यहां गहरी आस्था है। मान्यता है कि यहां दर्शन करने के बाद मां भक्तों की हर मुराद पूरी कर देती हैं।

मेहंदीपुर बालाजी

राजस्थान के दौसा जिले के पास दो पहाडिय़ों के बीच बसा मेहंदीपुर बालाजी भगवान हनुमान का सबसे खास तीर्थ स्थल माना जाता है। यह मंदिर काफी शक्तिशाली और चमत्कारिक माना जाता है। जिस वजह से यह स्थान न सिर्फ राजस्थान बल्कि पूरे देश में विख्यात है। यहां आने वाले भक्तों की हर पीड़ा और संकट को हनुमानजी हर लेते हैं। मान्यता है कि इस मंदिर में विराजित हनुमानजी बुरी आत्माओं और काले जादू से पीड़ित लोगों को परेशानी से छुटकारा दिलाते हैं।