18-25 साल का हर लड़का-लड़की जरूर करा ले ये 5 मेडिकल टेस्ट, वरना जीवन भर होगा पछतावा

0
744
18-25 साल का हर लड़का-लड़की जरूर करा ले ये 5 मेडिकल टेस्ट, वरना जीवन भर होगा पछतावा

 इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपकी उम्र क्या है। यह सुनिश्चित करना हमेशा आवश्यक है कि आपका स्वास्थ्य अच्छा है या नहीं। लेकिन स्वस्थ रहने के लिए कुछ प्रयास करने बहुत जरूरी हैं और इन्हीं में एक स्क्रीनिंग टेस्ट भी है जिससे आपको अपने स्वास्थ्य के बारे में पता चल सकता है और समय रहते इलाज कराने में मदद मिल सकती है। नेशनल सेंटर फॉर हेल्थ स्टैटिस्टिक्स के अनुसार, अमेरिका में लगभग 26 फीसदी लोगों के पास स्वास्थ्य देखभाल का नियमित स्रोत नहीं है। दिल्ली के जर्नल फिजिशियन डॉक्टर अजय लेखी के अनुसार वयस्कों को किसी भी कीमत पर कुछ मेडिकल टेस्ट करा लेने चाहिए ताकि आपको बुढ़ापे में किसी भी गंभीर बीमारी से बचने में मदद मिल सके।

1) स्किन टेस्ट

अमेरिकन कैंसर सोसाइटी द्वारा कराए गए एक अध्ययन के अनुसार अमेरिका में हर साल लगभग 3.3 मिलियन लोग स्किन कैंसर का इलाज कराते हैं। सुरक्षित रहने के लिए आपको 18 साल की उम्र में किसी बेहतर डर्मटोलोजिस्ट से स्किन टेस्ट करा लेना चाहिए।

2) कोलेस्ट्रॉल टेस्ट

कोलेस्ट्रॉल को ब्लड टेस्ट के जरिए मापा जाता है. हेल्दी कोलेस्ट्रॉल 200 मिलीग्राम / डीएल से कम होना चाहिए। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (एएचए) के अनुसार, 35 वर्ष से अधिक उम्र के सभी वयस्कों को अपने कोलेस्ट्रॉल को हर 5 साल में जांचना चाहिए। इसके बढ़ने से आपको डायबिटीज सहित कई गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।

3) पेल्विक टेस्ट

21 साल की उम्र की हर लड़की को हर तीन साल में पेल्विक टेस्ट करा लेना चाहिए। इस टेस्ट से सर्वाइकल कैंसर के लक्षणों का पता चल सकता है। अच्छी बात यह है कि आपको इसके बाद फिजिकल पेल्विक टेस्ट की जरूरत नहीं पड़ेगी। अमेरिकन कैंसर सोसाइटी के मुताबिक पिछले 50 वर्षों में इस बीमारी से मृत्यु दर में 74 फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई है और ऐसा सिर्फ इस टेस्ट की वजह से संभव हो पाया है।

READ  जानिए...? अंडा मांसाहारी है या शाकाहारी, वैज्ञानिकों ने बताया सच

4) डायबिटीज का टेस्ट

सभी वयस्कों को साल में कम से कम दो बार डायबिटीज का टेस्ट करवाना चाहिए। क्योंकि इसके शुरुआत में इसके लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। लेकिन अगर आपको कोई भी लक्षण महसूस होता है, तो तुरंत जांच करानी चाहिए।  135/80 मिमी एचजी से अधिक ब्लड प्रेशर डायबिटीज का लक्षण हो सकता है।

5) हेपेटाइटिस

हेपेटाइटिस लीवर से जुड़ी बीमारी है। यह आमतौर पर वायरल संक्रमण के कारण होता है, लेकिन हेपेटाइटिस के अन्य संभावित कारण भी हैं। इससे आपका इम्यून सिस्टम कमजोर हो सकता है और समय पर इलाज नहीं कराने से सिरोसिस या लीवर कैंसर हो सकता है। सेंटर फॉर डिज़ीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के मुताबिक, लगभग 4.4 मिलियन अमरीकी लोग वर्तमान में क्रोनिक हैपेटाइटिस बी या सी से पीड़ित हैं।