एसएसपी ने थाना प्रभारी पर किया मुकदमा दर्ज।

0
180

मेरठ। मेरठ के थाना सदर बाजार का हेड कांस्टेबल मनमोहन 30 हजार की रिश्वत लेता रंगे हाथों पकड़ा गया। इस मामले में थाना सदर बाजार इंस्पेक्टर बिजेंद्र राणा को भी भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के मुकदमे में आरोपित बनाया है। रिश्वत लेते हुए हेड कांस्टेबल को एसएसपी प्रभाकर चौधरी द्वारा बनाई टीम ने रंगे हाथों दबोचा। उधर हेडकांस्टेबल की गिरफ्तारी की सूचना मिलते ही इंस्पेक्टर सदर बाजार बिजेंद्र राणा फ़रार हैं। एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि प्रथम दृष्टया जांच में सबूत के आधार पर सदर बाजार के हेडकांस्टेल और इंस्पेक्टर के खिलाफ भ्रष्टाचार का मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोप है कि ट्रक चोरी के मुकदमें की विवेचना में वसूली कर रहे थे। एसपी सिटी विनीत भटनागर ने बताया कि थाने के हेडकांस्टेबल और इंस्पेक्टर ट्रक चोरी के मामले में पूछताछ के लिए लाए गए खतौली के वकार को छोड़ने के एवज में एक लाख की रिश्वत मांग रहे थे। पचास हजार की रकम पहले ही मनमोहन हेडकांस्टेबल मनमोहन को दी जा चुकी थी। बाकी की रकम हेड कांस्टेबल मनमोहन को दी जानी थी। खतौली का वकार शाम चार बजे थाने के बाहर पोस्ट आफिस के सामने मनमोहन को बाकी रकम देने पहुंचा। तभी एसपी सिटी की टीम ने मनमोहन को तीस हजार की रकम के साथ पकड़ लिया। रिरश्वतखोर मनमोहन को एसएसपी के सामने पेश किया गया। जिसमें उसने बताया कि इंस्पेक्टर बिजेंद्र राणा के कहने पर वह रुपये लेने गया था। उसने बताया कि इंस्पेक्टर इससे पहले भी ट्रक स्वामी और चालक को छोड़ने की एवज में तीन लाख की रकम वसूल चुके हैं। एसएसपी ने इंस्पेक्टर के आवास की तलाशी लेने के आदेश दिए।

Leave a reply