मल्टीलेवल पार्किंग के मामले में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेई आए सामने।

0
37

मेरठ। अपनी ही सरकार में अधिकारियों के खिलाफ भाजपा के दिग्गज नेता डा0 लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने मोर्चा खोल दिया है। उनका कहना है कि मेरठ में आने वाले अधिकारी मेरठ के विकास को लेकर गंभीर नहीं होते। वे कोई न कोई ऐसा पेंच फंसा देते हैं जिससे विकास फाइलों में अटका रह जाता है। उन्होंने कहा कि इस मामले में निगम और एमडीए के अधिकारी सबसे आगे हैं। निगम के अधिकारी ऐसा प्रस्ताव तैयार करते हैं। जिससे इसमें कोई न कोई विवाद हो जाए और विकास का काम लटक जाए। डा0 लक्ष्मी कांत वाजपेयी ने कहा कि टाउन हाल में मल्टीलेवल पार्किंग का मामला भी इन्हीं में से एक हैं। उन्होंने मल्टीलेवल पार्किग के विवाद के पीछे अधिकारियों को जिम्मेदार ठहराया। उनका कहना है कि ये तो सिर्फ मल्टीलेवल पार्किंग का मामला है।लेकिन इससे पहले और भी कई मामले इस प्रकार के सामने आ चुके हैं।जिसमें अधिकारियों ने जानबूझकर ऐासा प्रस्ताव तैयार किया। जिससे पूरी योजनाएं फाइलों में दबकर रह गई। मेरठ महायोजना-2021 में स्पष्ट लिखा है कि मल्टीलेवल पार्किंग के लिए 18 मीटर सड़क होनी आवश्यक है। टाउनहाल के सामने सड़क की चौड़ाई है महज 10.65 मीटर। ऐसे में मल्टीलेवल पार्किंग का प्रस्ताव बाद में लटक जाता। जब एमडीए का नियम ही यहां पर मल्टीलेवल पार्किंग की अनुमति नहीं देता तो फिर ऐसा प्रस्ताव बना ही क्यों। उन्होंने कहा कि अधिकारी ऐसी जगह तलाशते हैं जहां का प्रस्ताव अटक जाए। जबकि इसी शहर के अंदर नजूल की पर्याप्त भूमि है जिस पर अतिक्रमण है। उन्होंने इस बारे में लखनऊ नगर विकास मंत्री से बात करने की बात कही।

Leave a reply