सिर कटी लाश देख काँप गई लोगो की रूह

0
83

बागपत ।सीमापुरी दिल्ली की सनलाइट कॉलोनी निवासी शहजाद (50 वर्ष) की धारदार हथियार से सिर काटकर हत्या कर दी गई। हत्यारोपियो ने धड़ ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे के किनारे मुबारिकपुर गांव के जंगल में एक खेत में फेंक दिया। सिर अभी नहीं मिला है, जिसकी पुलिस तलाश कर रही है। हत्या के पीछे बेटे के प्रेम विवाह की रजिंश को वजह बताया जा रहा है।

घटना का पता सुबह उस समय चला, जब मुबारिकपुर निवासी भीम सिंह पशुओं के लिए चारा लेने खेत में पहुंचे। दुर्गंध आने पर उन्होंने खेत में जाकर देखा तो सिर कटी लाश पड़ी थी। मौके से मिले कागजातों के आधार पर सीमापुरी पुलिस को जानकारी दी गई। परिजनों ने कपड़ों के आधार पर मृतक की पहचान की। शहजाद को गत 12 जुलाई को रटौल निवासी एक युवक घर से बुलाकर लाया था। एक साल पहले शहजाद के बेटे आसिफ ने लव मैरिज की थी, इसको लेकर लड़की पक्ष नाराज था। शहजाद को पहले भी गाड़ी से कुचलने की कोशिश की गई थी। इसी रंजिश में हत्या होने की आशंका जताई जा रही है। सीओ खेकड़ा युवराज सिंह का कहना है कि शहजाद की गुमशुदगी दिल्ली में ही दर्ज है। अब दिल्ली पुलिस उसमें हत्या की धारा बढ़ा देगी।

शहजाद के पुत्र की लव मैरिज के बाद उनकी लड़की पक्ष के लोगों से रंजिश शुरू हो गई थी। शहजाद को रटौल का रहने वाला रियासत घर से बुलाकर ले गया था। वह सीसीटीवी फुटेज में भी कैद हुआ था। सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद गुरुवार को शहजाद को तलाश करते हुए परिजन रटौल भी आए थे, लेकिन उन्हें कोई जानकारी नहीं मिल पाई। शुक्रवार को उसकी हत्या की सूचना मिली।
वहीं पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे शहजाद के जीजा जहीर उर्फ कल्लू ने बताया कि शहजाद के पुत्र आसिफ ने करीब डेढ़ वर्ष पूर्व नाजरा नाम की लड़की से लव मैरिज की थी। तभी से लड़की वाले उनके साथ रंजिश रखने लगे थे।
इससे पहले भी आरोपी पक्ष के लोगों ने शहजाद को जान से मारने की धमकी दी थी। गाड़ी से कुचलने का भी प्रयास किया था, जिसकी रिपोर्ट सीमापुरी थाने में दर्ज कराई थी।
बताया गया कि मुसाहिद और परवीन नाम की महिला ने रटौल के रहने वाले रियासत को 12 जुलाई को उनके घर भेजा था। वह उसे बुलाकर ले गया था। रियासत सीसीटीवी कैमरे में भी आ गया है। इस हत्या में चार-पांच लोग शामिल हैं। आरोपियों की जानकारी पुलिस को दे दी है। पोस्टमार्टम के बाद परिजन शव लेकर दिल्ली की ओर रवाना हो गए थे। इस दौरान शहजाद के भाई रियाजुद्दीन, साला गुल मोहम्मद व पप्पू आदि भी मौजूद थे।

Leave a reply