छेड़छाड़ से परेशान होकर युक्ति ने खाया जहर।

0
78

मेरठ।परीक्षितगढ़ के खजूरी गांव निवासी छेड़छाड़ पीड़िता किशोरी, आरोपियों पर कार्रवाई नहीं होने से क्षुब्ध होकर जहर खाकर थाने पहुंच गई। किशोरी को गंभीर हालत में देख पुलिस में हड़कंप मच गया। आननफानन में पुलिस, उसे लेकर मेरठ के निजी अस्पताल पहुंची जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इस मामले में आरोपियों के खिलाफ चार माह में भी पुलिस कोई एक्शन नहीं कर पाई थी। एसएसपी ने सीधे तौर पर विवेचक की लापरवाही को लेकर कार्रवाई का निर्देश दिया है। थाना पुलिस के खिलाफ जांच बैठा दी है।

बता दे खजूरी गांव निवासी किशोरी के साथ गांव के युवक शादाब ने छेड़छाड़ की थी। इस मामले में 19 फरवरी 2021 को किशोरी की मां ने आरोपी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। बताया था कि 16 फरवरी को शादाब ने मोबाइल देते हुए बातचीत करने का दबाव बनाया था। किशोरी ने मना किया तो आरोपी ने तेजाब डालने की धमकी दी। इस मामले में पीड़ित परिवार ने आरोपी के घर जाकर शिकायत भी की, लेकिन उन्हें धमकी दी गई। किशोरी की मां की तहरीर पर पुलिस ने शादाब, मुनव्वर और गुलशेर के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था, लेकिन कोई गिरफ्तारी नहीं की गई। इस दौरान आरोपी पक्ष लगातार धमकी देता रहा। किशोरी की मां का आरोप है कि इसी से क्षुब्ध होकर शुक्रवार शाम बेटी ने जहर खा लिया। इसके बाद गंभीर हालत में किशोरी और उसकी मां थाने पहुंची। जैसे ही पुलिस को किशोरी के जहर खाने का पता लगा तो हड़कंप मच गया। आननफानन में पुलिस ने किशोरी को केएमसी अस्पताल में भर्ती कराया। यहां उपचार के दौरान किशोरी की मौत हो गई। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। कोतवाल आंनद प्रकाश मिश्रा ने बताया कि पीड़िता की तहरीर पर तभी मुकदमा दर्ज कराकर उसके बयान दर्ज करा दिए थे। आरोपियों को पकड़ने के लिए दबिश दी जा रही थी, लेकिन आरोपी मकान बंद कर फरार थे।

इस मामले में विवेचक लापरवाही के कारण एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने निलंबित कर दिया है । आरोपियों की गिरफ्तारी का प्रयास किया जा रहा है और थाना प्रभारी और बाकी पुलिस की भूमिका की भी जांच होगी।

Leave a reply

en_USEnglish