यासीन मलिक को सजा सुनाने वाले जज की जान को खतरा! सुरक्षा देगी केंद्र सरकार, तिहाड़ में रहेगा अलगाववादी

0
95

अलगाववादी नेता यासीन मलिक को टेरर फंडिंग मामले में सजा सुनाने वाले जज को सरकार सुरक्षा दे सकती है। अधिकारियों ने जानकारी दी है कि यह सुरक्षा खतरे के आकलन पर आधारित होगी। खास बात है कि इससे पहले साल 2002 में संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु को सजा-ए-मौत देने वाले विशेष न्यायाधीश एसएन धींगरा को उच्च सुरक्षा दी गई थी।मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सरकार की तरफ से नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) के जज प्रवीण सिंह को कड़ी सुरक्षा दिए जाने की संभावनाएं हैं। पटियाला हाउस कोर्ट ने बुधवार को मलिक को उम्रकैद की सजा का ऐलान किया था। खबर है कि वरिष्ठ जज UAPA के तहत NIA की तरफ से बड़ी संख्या में जांच किए जा रहे मामलों पर भी नजर रखेंगेॉ।

पहले भी जजों पर हो चुके हैं हमले
पहले कश्मी में आतंकवादियों ने सत्र न्यायाधीश नीलकंठ गंजू की गोली मारकर हत्या कर दी थी। गंजू ने जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के नेता मकबूल भट्ट को मौत की सजा दी थी। हालांकि, बाद में गुरु और भट्ट दोनों को फांसी दे दी गई थी। खतरे का आकलन करने के बाद दी जाने वाली सुरक्षा की 6 श्रेणियां (X, Y, Z, Z+, एसपीजी और एनसजी) होती हैं।

 

Leave a reply

en_USEnglish