कोरोना की तीसरी लहर सितंबर में आने की आशंका, बच्चों को ले सकती है चपेट में ,बचाव के लिए बच्चों यह बरतनी होंगी सावधानियां।

0
116

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान के तैयार की गई रिपोर्ट में कोरोना महामारी के तीसरे वेव की सितंबर महीने में आशंका जाहिर की गई है. रिपोर्ट में स्पष्ट तौर पर यह कहा गया है कि बच्चों पर यह वेव ज्यादा प्रभाव डालेगी इसका कोई बायोलॉजिकल आधार नहीं मिला है. साथ ही रिपोर्ट में यह सलाह भी दी गई है कि कोरोना के मामले भले ही कम दिखाई दें लेकिन सतर्कता लगातार जरूरी है जिससे तीसरी वेव ना आने पाए.राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान द्वारा कोरोना मामले को लेकर लगातार रिसर्च जारी है और इसके तहत जहां एक तरफ इस रिसर्च में यह जानने की कोशिश की जाती है कि खतरा अभी कितना बरकरार है वहीं दूसरी तरफ सरकार को भी इससे संबंधित अहम सलाह दी जाती है. जिससे केंद्र सरकार आने वाले समय का आकलन कर मुसीबत से निपटने की की पूरी तैयारी रखें. इसी के तहत राष्ट्रीय आपदा संस्थान ने अपनी 55 पेजों की एक रिपोर्ट तैयार की है


इस रिपोर्ट में स्पष्ट तौर पर कहा गया है कि सितंबर महीने में कोरोना की तीसरी लहर आने की संभावना है. रिपोर्ट में कहा गया है कि इस तीसरी लहर में सितंबर महीने में प्रतिदिन 5 लाख से ज्यादा मामले आ सकते हैं. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इस संभावना के तहत अक्टूबर महीने में यह मामले घटकर दो लाख होने की संभावना है. रिपोर्ट के मुताबिक इसके बाद स्थिति सामान्य होने की तरफ बढ़ती चली जाएगी.कोरोना की तीसरी लहर में 2 साल से ऊपर के बच्चों में इसका ज्यादा प्रकोप होने की संभावनाएं अब तक व्यक्त की जा रही थी. लेकिन राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान की ताजा रिपोर्ट कहती है कि उसने मार्च 2021 से जून 2021 के बीच चार राज्यों में सीरो लॉजिकल सर्वे कराया था और इसके तहत 45 हजार सैंपल लिए गए थे. रिपोर्ट कहती है कि इस सर्वे के दौरान कहीं भी ऐसा कोई बायोलॉजिकल तक नहीं मिला है कि जो यह साबित करता हो कि 2 साल से बड़े बच्चों को यह बीमारी वयस्कों की तुलना में ज्यादा परेशान करेगी.।

Leave a reply

en_USEnglish