एक अक्टूबर को वृद्धा दिवस पर आएगी पेंशन की दूसरी किश्त,हर वृ​द्ध के खाते में सरकार डालेगी 15 सौं रुपये की धनराशि।

0
54

मेरठ। एक अक्टूबर को वृद्धावस्था पेशन योजना की दूसरी किश्त आएगी। यह किश्त अंतराष्ट्रीय वृद्ध दिवस के अवसर पर प्रदेश सरकार द्वारा जारी की जाएगी। बता दे कि अभी कुछ दिन पहले ही योगी सरकार ने वृद्धावस्था पेंशन योजना की पहली किश्त जारी की थी। इसकेा लेकर विभाग ने पूरी तैयारी कर ली है। मेरठ में वृद्धावस्था पेशन के लिए 32,347 लाभार्थी हैंं। वहीं विधवा पेंशन के लिए 44,036 और दिव्यांग पेंशन के लिए 14,497 लाभार्थी हैं। समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित वृद्धावस्था पेंशन की दूसरी तिमाही की किस्त की राशि लाभार्थियों के बैंक खातों में आनलाइन हस्तांतरित की जाएगी। मेरठ समाज कल्याण अधिकारी मुश्ताक अहमद ने बताया कि कल्याण निदेशालय में आयोजित होने वाले एक संक्षिप्त कार्यक्रम में प्रदेश के समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री कम्प्यूटर का बटन दबाकर 55 लाख 61 हजार लाभार्थी वृद्धजनों के बैंक खातों में यह राशि हस्तांतरित करेंगे। प्रति माह 500 रुपये प्रति लाभार्थी की दर से 1500 रुपये की राशि हर लाभार्थी के खाते में भेजी जाएगी। उन्होंने बताया कि इस दिन एक कार्यक्रम का भी आयोजन किया जाएगा। जिसमें वृद्धाश्रम में जाकर वहां रह रहे वृद्धजनों को नए वस्त्र,फल आदि वितरित करेंगे और उनसे संवाद करेंगे। इसी तरह राज्य के हर जिले के वृद्धाश्रम में वहां रह रहे वृद्धजनों के लिए कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे।
पहली किश्त के बाद खिले थे वृद्धों के चेहरे – बता दे कि मार्च से वृद्धावस्था पेंशन योजना के अलावा अन्य पेंशनों पर ग्रहण लगा हुआ था। बैंकों के विलय होने के बाद पिछले कुछ महीनों से पेंशन लाभार्थियों के खाते में नहीं पहुंच रही थी। मेरठ जिले के हजारों पात्र लाभार्थियों के खातों में पेंशन आनी बंद होने से उनकी परेशानी बढ़ गई है। लाभार्थियों के संबंधित विभागों में पूछताछ करने पर पता चला कि बैंक बदल गए हैं। विभागीय प्रक्रिया की जा रही थी। विभागीय अधिकारी सब कुछ ठीक रहने पर सितंबर तक पेंशन के सामान्य ढंग से खातों में पहुंचने का दावा कर रहे थे। सितंबर में पहली किश्त डाल दी गई थी। अब दूसरी किश्त कल यानी 1 अक्टूबर को डाली जाएगी। विधवा, वृद्वावस्था और दिव्यांग पात्र लाभार्थियों को तीन महीने में एक बार 1500 रुपये बैंक में भेजे जाते हैं। कोरोना काल में इनमें से ज्यादातर को यह धनराशि नहीं मिल पाई। बैंकों के विलय के कारण वृद्धावस्था पेंशन के छह हजार लाभार्थियों के खातों में तीन महीने से कोई धनराशि नहीं आई थी। विधवा पेंशन भी तीन महीने पहले ही खातों में पहुंची थी। यही नहीं, छात्रवृत्ति के करीब तीन सौ खाते भी इससे प्रभावित हुए थे। जिला समाज कल्याण अधिकारी ने बताया कि अगर फिर भी किसी लाभा​र्थी को परेशानी होती है तो वे उनके कार्यालय में आकर संपर्क कर सकते हैं।

Leave a reply

en_USEnglish