देश दुनिया

आखिर स्मॉक केन लेकर संसद के अंदर कैसे पहुंचा सागर शर्मा, पुलिस ने बताया

नई दिल्ली: संसद की सुरक्षा में चूक कैसे हुई इसकी जांच दिल्ली पुलिस कर रही है. इस घटना को लेकर गिरफ्तार पांच आरोपियों से भी पूछताछ हो रही है. अभी तक इन आरोपियों से पुलिस की पूछताछ में कई बड़े खुलासे हुए हैं. पुलिस सूत्रों ने एनडीटीवी को बताया है कि सदन के अंदर स्मोक केन लेकर जाने के लिए सागर शर्मा ने कुछ अलग तैयारी की थी. पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने बताया है कि आरोपी सागर ने जिस जूते में स्मॉग केन छिपाया था, उस जूते में एक्सट्रा पैडिंग की गई थी. पुलिस ने अपनी एफआईआर में इस बात का जिक्र किया है.

सागर शर्मा ने जूतों के साथ खाकी रंग का मोज़ा पहना था, जो कथित तौर पर उनके गृह नगर लखनऊ में ऑर्डर देकर बनवाया गया था. दिल्ली पुलिस ने गुरुवार शाम कहा कि सागर शर्मा, मनोरंजन, नीलम देवी और अमोल शिंदे को उस दुकान की पहचान करने के लिए लखनऊ ले जाया जाएगा, जहां से ये जूते बनवाए गए थे.FIR में कहा गया है कि सागर शर्मा ने हल्के ग्रे रंग के जूते तो मनोरंजन ने डार्क ग्रे रंग के जूते पहने थे.

मनोरंजन ने अपने दाहिने पैर में जो जूता पहना था, उसके अंदर के तलवे में भी एक छेद पाया गया था, और इसे भी नीचे की ओर लगी दूसरी रबर स्लिप से सहारा दिया गया था. मनोरंजन ने अपने जूतों के साथ गहरे नीले रंग के मोज़े पहने थे. पुलिस ने कहा कि इन जूतों और मौजे को फोरेंसिक जांच के भेज गए हैं.

इसके अलावा, पुलिस ने सागर शर्मा और मनोरंजन द्वारा इस्तेमाल किए गए कनस्तरों के साथ-साथ उनकी पहचान की पुष्टि करने वाले दस्तावेज़ भी बरामद किए हैं. इनमें लखनऊ और मैसूरु के आधार कार्ड भी शामिल थे. पुलिस ने आंशिक रूप से फटे हुए दो पर्चे भी जब्त कर लिए.

बता दें कि इससे पहले, पुलिस ने कहा था कि शर्मा और मनोरंजन बेरोजगारी जैसे मुद्दों को उजागर करने के लिए सदन में नहीं, बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ये पर्चे देना चाहते थे. पुलिस ने यह भी कहा कि उनके पास एक पैम्फलेट है जिसमें पीएम को “लापता व्यक्ति” बताया गया है और स्विस बैंक से नकद इनाम की पेशकश की गई है.

इस्तेमाल किए गए धुएं के डिब्बे भी संसद के बाहर से बरामद किए गए, जहां नीलम देवी और अमोल शिंदे ने बुधवार के विरोध प्रदर्शन का दूसरा भाग आयोजित किया था. चार डिब्बे और कुछ पटाखे जब्त किये गये.

प्रत्येक धूम्रपान कनस्तर पर चेतावनी लेबल लगे हुए थे जो इनडोर या भीड़-भाड़ वाली जगहों पर उपयोग के खिलाफ चेतावनी देते थे, साथ ही 18 वर्ष से कम उम्र के लोगों को इसकी बिक्री के खिलाफ भी चेतावनी देते थे. डिब्बे का उपयोग करने के तरीके पर सख्त चेतावनियां थीं, जिसमें चश्मे या दस्ताने का उपयोग करना और सक्रियण के बाद सुरक्षित दूरी पर पीछे हटना शामिल था.
  • rammandir-ramlala

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!